अधूरा ख़्वाब

अधूरी नींद है, अल-सुबह किसी ख़्वाब ने जगा दिया,
जो खुद भी अधूरा ही रह गया,
वैसे हर ख़्वाब अगर पूरा होने लगे,
तो हक़ीक़त और उनमें, क्या फर्क रहेगा???

Labels: