सच

जो दिल में है गर वो ज़ुबाँ तक आ जाएगा
सुनने वालों का कलेजा मुँह तक आ जाएगा

यूँ ही जो दम भरते हैं अपनी दरियादिली का
वो दरिया छलक कर गलियों तक आ जाएगा

जिनकी सियासी चालों से रियासत में है हलचल
पत्थर उछलकर उनकी खिड़की तक आ जाएगा

जिसने लगाई है जंगल में ख़बर आग की तरह
वो धुआँ उड़कर उसके शहर तक आ जाएगा

सुना है कि कलयुग में भी आएगा कोई अवतार
लगता नहीं कि क़यामत से पहले तक आ जाएगा

Labels: , , , , , , , , ,